जून, 2014 : दूजौ पेपर

1. ‘मरूभाषा’ रो प्राचीनतम उल्लेख किण पोथी मांय मिळै?

A. कुलयमाळा
B. रघुनाथ रूपक
C. नैणसी री ख्यात
D. रघुवरजसप्रकास

2. किसै क्रम री सगळी उपबोलियां मारवाड़ी री है?

A थळी, निमाड़ी, अजमेरी, गोडवाड़ी
B थळी, बाड़मेरी, जोधपुरी, गोडवाड़ी
C थळी, अजमेरी, तोरावाटी, कठैड़ी
D थळी, बाड़मेरी, रांगड़ी, गोडवाड़ी

3. किसै क्रम रा सगळा शब्द राजस्थानी रा नीं है?

A आगीवाण, अंतरजामी, अणपढ, सुरंगो
B सालीणो, धराउ, जीमण, गजबण
C इळा, कैर, कागलो, इरकांणी
D डूंगर, अदालत, गवरजा, कांठळ

4. वैग्यानिक दीठ सूं राजस्थानी रौ प्रथम व्याकरणकार है?

A नरोत्तमदास स्वामी
B सीताराम लालस
C रामकर्ण आसोपा
D उदयराज उज्ज्वल

5. ‘जोधपुर ऐतिहासिक नगर है।’ इण वाक्य मांय जोधपुर शब्द है?

A विशेषण
B संज्ञा
C कर्ता
D क्रिया विशेषण

6. ‘हाथ सूं रोटी खाउं हूं।’ इण वाक्य मांय किसौ कारक है?

A कर्ता
B कर्म
C सम्बंध
D करण

7. किसौ शब्द द्वन्द्व समास रौ रूप है?

A चंद्रमुखी
B साग—रोटी
C राजकंवर
D पंचकूटौ

8. ‘खाटौ आंबो कठा सूं लायौ?’ इण वाक्य मांय किसौ शब्द विशेषण है?

A कठा सूं
B आंबो
C खाटौ
D लायौ

9. राजस्थानी स्वर ध्वनियां किण नांव सूं जाणीजै?

A कक्को
B प्लुत
C स्पर्श
D बिलटी

10. दूजौ कै विरोधी भाषावां रै शब्दां नै मिळावणौ डिंगल—काव्य में किसौ दोष वाजै?

A छबकाळ
B निनंग
C अपस
D बहरौ

11. ‘वीसलदेव रासौ’ रा रचनाकार है?A पृथ्वीराज राठौड़
B भाउंड व्यास
C नरपति नाल्ह
D शार्डंधर

12. ‘निहालदे—सुल्तान’ लोक गाथा रौ कथानक है

A वीर रस प्रधान
B प्रेम प्रधान
C भक्ति प्रधान
D वैराग्य प्रधान

13. खिड़िया हुकमीचंद रौ नांव किण रस रै गीतां सारू सिरै मानीजै?

A वीर रस
B सिणगार रस
C हास्य रस
D करुण रस

14. ‘पुराणी राजस्थानी’ पोथी रै मूल लेखक रौ नांव है?

A डॉ. ग्रियर्सन
B एलपी तेस्सितोरी
C केलॉग
D डॉ. सुनीतिकुमार चाटुज्र्या

15. एकइ वन्न बसंतड़ा, एवड़ अंतर काय।
सिंघ कवड्डी ना लहै, गयवर लाख बिकाय।।
— औ दूहौ किण ग्रंथ रौ है?

A राजरूपक
B रणमल छंद
C हालां झालां रा कुंडळिया
D अचलदास खीची री वचनिका

16. ‘भगत कवि हरजी भाटी’ पोथी रा लेखक है?

A पुरूषोत्तम छंगाणी
B श्याम महर्षि
C डॉ. सोनाराम विश्नोई
D डॉ. रामकुमार गरबा

17. ‘अफळ रूंख अटकल परा उड जाये पंखी।
सर सूखौ संपेख, कोइ न हुवै तसु कंखी।।’
— धर्मवद्धन कृत इण कथन रौ सार अरथ है?

A मोवणौ संसार
B सोवणौ संसार
C स्वार्थी संसार
D लाखीणौ संसार

18. ‘वेलि क्रिसन रुकमणी री’ कृति किण क्रम री त्रिवेणी है?

A कला, भक्ति, सिणगार
B ग्यान, भक्ति, नीति
C वीरता, कला, भक्ति
D सिणगार, भक्ति, वीरता

19. ‘बालावबोध’ किण शैली री रचना है?

A जैन
B चारण
C संत
D लौकिक

20. मीरां री पदावली में किण भाषा रा शब्द नीं मिळै?

A राजस्थानी
B मैथिली
C गुजराती
D ब्रज

21. ‘उमादे भटियाणी रा कवित्त’ रा कवि है?

A ईसरदास
B माला सांदू
C सांदू हूंफा
D बारहठ आसा

22. ‘बीसलदेव रासौ’ काव्य में बीसलदेव जीतण सारू जावै?

A बंगाल
B बिहार
C कर्नाटक
D उड़ीसा

23. लोक मान्यता रै मुजब अधूरै पृथ्वीराज रासौ नै पूरौ कीनौ हौ?

A कल्हण
B पाल्हण
C जल्हण
D कल्लोल

24. ‘रघुनाथ रूपक गीतां रौ’ ग्रंथ किण कारण सूं चावौ है?

A चम्पू काव्य री दीठ सूं
B लक्षण ग्रंथ री दीठ सूं
C रघुवंश री प्रशंसा री दीठ सूं
D भगवद् गीता रै विषय री दीठ सूं

25. ‘रूठी राणी’ रै नांव सूं जाणीजै?

A उमादे भटियाणी
B सुपियारदे सोलंकियाणी
C चम्पादे
D कर्मवती

26. निराकार ब्रह्म री उपासना सूं जुड़ियोड़ा सम्प्रदा ‘अलखिया’ री घणौ प्रभाव राजस्थान रै किण संभाग रै किण संभाग में है?

A जयपुर
B उदयपुर
C जोधपुर
D बीकानेर

27. कवि वृन्द रौ जलम स्थान है?

A बालोतरौ
B लोद्रवौ
C मेड़तौ
D कुड़की

28. ‘ढोला मारू रा दूहा’ रौ संबंध किण स्थानां सूं है?

A नरवर—आमेर सूं
B पूगळ—नरवर सूं
C देरावर—लोद्रवा सूं
D पूगल—जैसलमेर सूं

29. ‘ढाढी बादर’ री रचना ‘वीरमायण’ रौ मुख्य छंद है?

A नीसाणी
B झमाल
C कवित्त
D छप्पय

30. राजस्थानी रौ दूहौ छंद किण री देन मानीजै?

A संस्कृत
B प्राकृत
C अपभ्रंश
D पाली

31. ‘राज बदळग्यौ म्हांनै कांई?’ आ ओळी किण कवि री है?

A भीम पांडिया
B मोहम्मद सद्दीक
C कानदान कल्पित
D गणेशीलाल व्यास उस्ताद

32. ‘लू’ अर ‘बादळी’ किण भांत रा काव्य है?

A नई कविता
B प्रगतिवादी काव्य
C प्रकृतिपरक काव्य
D राष्ट्रीय चेतनापरक काव्य

33. ‘आ धरती गोरां धोरां री’ कविता रा कवि है?

A गजानन वर्मा
B कन्हैयालाल सेठिया
C मेघराज मुकुल
D सुमेरसिंह शेखावत

34. ‘रामस्नेही’ सम्प्रदाय रा प्रवर्तक संत है?

A सुंदरदास
B रामचरण
C रज्जब
D संतदास

35. राजस्थान मांय ‘भारतीय लोक कला मंडल संस्थान’ किण जगा है?

A जयपुर
B बीकानेर
C उदयपुर
D कोटा

36. राजस्थानी मांय रेखाचित्रां रौ श्रीगणेश कुण कीनौ?

A मुरलीधर व्यास
B श्रीलाल नथमल जोशी
C भंवरलाल नाहटा
D मोहनलाल पुरोहित

37. ‘भित्त—चित्रां’ री दीठ सूं राजस्थान मांय किसौ अंचळ प्रसिद्ध है?

A मेवाड़
B शेखावाटी
C मेवात
D मारवाड़

38. ‘कान्हड़दे प्रबंध’ काव्य ग्रंथ रौ रचनाकार है?

A दुरसा आढा
B हेम सामौर
C गिरधर आशिया
D पद्मनाभ

39. राजस्थानी मांय तुकान्त शैली रौ गद्य वाजतौ हौ?

A विगत
B वात
C वचनिका
D ख्यात

40. निसाणी कांई है?

A अलंकार
B लोकगीत
C राग
D छंद

41. ‘राजिया रा सोरठा’ रचनाकार रौ नांव है?

A कृपाराम खिड़िया
B जग्गा खिड़िया
C चानण खिड़िया
D हुकमीचंद खिड़िया

42. ‘सरल अर संक्षिप्त टीका’ नै कैवै?

A औक्तिक
B टब्बा
C हित—शिक्षा
D बालावबोध

43. गोविन्दलाल माथुर रौ नांव किण विधा सूं जुड़ियोड़ौ है?

A कविता
B उपन्यास
C एकांकी
D संस्मरण

44. राजस्थानी लोक कथावां रा सिरै संग्राहक लेखक हैं?

A रावत सारस्वत
B नृसिंह राजपुरोहित
C कन्हैयालाल सहल
D विजयदान देथा

45. ‘साख भरै सबद’ राजस्थानी कविता पोथी रौ संपादन कीनौ है?

A डॉ. अर्जुनदेव चारण
B डा. सीपी देवल
C डॉ. शक्तिदान कविया
D नंद भारद्वाज

46. ‘बोल भारमली’ किण कवि री रचना है?

A लक्ष्मणसिंह रसवंत
B सत्यप्रकाश जोशी
C रामप्रसाद दाधीच
D कल्याणसिंह राजावत

47. नीचै लिखियौड़ी मांय सूं किसी कृति हरीश भादाणी री नीं है?

A जिण हाथां आ रेत रचीजै
B हूणिया रा होरठा
C बाथां में भूगोल
D हंसतोड़ा होठां रौ साच

48. ‘बणीठणी’ रौ​ चित्र किण चित्रशैली रौ है?

A नाथद्वारा
B बूंदी
C किशनगढी
D मेवाती

49. ‘काळी भली नह कबडाळी’ मुहावरै रौ अरथ है?

A किणी ई पक्ष रौ सही नीं होवणौ
B काळै पक्ष रौ सही होवणौ
C काळ अर कबडाळै रौ सही होवणौ
D धोळै रौ धाप’र सही होवणौ

50. ‘मातभासा नै माता रो स्थान अंत:करण है, सो उठै असर करणवाळी बात थेट काळजै री कोर सूं निकळियोड़ी आवाज ही होय सकै। आज ई राजस्थान रा घणकरा आदमी घर में मां—बाप अर लुगाई—टाबरां सूं राजस्थानी में बातां करै पण बारलो आदमी मिळतां ही खड़ी बोली में बोलणो सरू कर देवै। किणी आदमी सूं कोई गरज री अरज करणी है नै उणनै आपरी तरफ मोड़णो है तो दिल में असर पुगावण वाळी मातभासा में ही बोलणो पड़सी। सैकड़ां लोगां नै बडा—बडा अफसरां अर मंत्रियां सूं बातां करती वेळा राजस्थानी में बोलतां देखां, इणरो कारण है अंत: करण री कुदरती आवाज।”
— उपरलै गद्य—अवतरण रो अजरौ—ओपतौ अर सार वाक्य है?

A मातभासा असर करण आळी काळजै री कुदरती आवाज व्है।
B मातभासा सूं सैंकड़ू लोग प्रभावित व्है।
C मातभासा सूंं मेळजोळ बधै।
D मातभासा सूं लुगाई—टाबर खुस रैवै।

————-

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s